मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।

Image
Mardana Shakti Badhaane ka Rambaan Upaaye मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।हरि ॐ 
1. अपने सेक्स जीवन के  रीसेट बटन को  दबाएं  यदि आप एक यौन कूट में युग्मित और अटक गए हैं, तो आप अके
ले नहीं हैं। जबकि सूखे मंत्र किसी भी रिश्ते का एक सामान्य हिस्सा हैं, यह अभी भी एक अनुभव करने वाले जोड़ों के लिए कोई सांत्वना नहीं है। "गर्ल सेक्स 101" के एलीसन मून लेखक हेल्थलाइन ने कहा, "परिचितता सेक्स ड्राइव की मौत है।" "जितना अधिक हम किसी के लिए अभ्यस्त होते हैं, उतना कम रोमांचक सेक्स हो जाता है।"

यहां कुछ त्वरित युक्तियां दी गई हैं - जिनमें से कुछ मैंने कोशिश की हैं - यदि आपके सेक्स जीवन में कमी है, तो जुनून को राज करने में मदद करने के लिए।

2. एक नए तरीके से अपने शरीर की ऊर्जा को मुक्त करें  "नाच जाओ या योग का प्रयास करो," चंद्रमा कहते हैं। "एक बार जब आप अपने स्वयं के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर लेते हैं, तो आप अपने साथी के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर सकते हैं।" एक सर्वेक्षण में पाया गया कि युग्मित लेकिन यौन रूप से निष्क्रिय लोग द…

वर्जिनिटी वापसी पाने का बेहतरीन उपाय।

Virginity Vaapis Paane Ka Best Trika

वर्जिनिटी वापसी पाने का बेहतरीन उपाय। 

हरि ॐ

वर्जिनिटी वापस पाने का तरीक़ा क्या हो सकता है यह इस पर निर्भर करता है कि वर्जिनिटी को कैसे परिभाषित किया गया है।
साधारणत:, विशेषकर भारत का रूढ़िवादी समाज यह मानता है कि स्त्री की योनि में योनिच्छद की उपस्थिति ही वर्जिनिटी का प्रमाण है जबकि वास्तव में ऐसा है नहीं।योनिच्छद (hymen) उस झिल्ली को कहते हैं जो योनिद्वार के बाहरी प्रवेशद्वार को आंशिक रूप से या अधिकांशतः ढके रहती है।
Virginity
वर्जिनिटी वेजाईना
बहुत से देशों में वैज्ञानिक ज्ञान के आभाव में ऐसा माना जाता है यदि विवाह के पश्चात पति द्वारा प्रथम रात्रि को संभोग करने पर पत्नी की योनि से योनिच्छद फटने के कारण रक्तस्राव नहीं होता है तो पत्नी वर्जिन नहीं है। यह परिवार और समाज द्वारा किया जाने वाला एक प्रकार का वर्जिनिटी परीक्षण है जो वैज्ञानिक तौर पर सही नहीं है।
पूर्व में जब बाल विवाह होते थे तो पत्नी की आयु बहुत कम होने के कारण उसके योनिच्छद के मौजूद रहने और पति द्वारा पहली बार संभोग करने पर योनिच्छद के फटने से रक्तस्राव इत्यादि होने की बहुत अधिक संभावना रहती थी किन्तु वर्तमान में जब लड़कियों का विवाह 27–28 या उससे भी अधिक आयु में हो रहा है तो यह अपेक्षा करना कि अभी भी सुहागरात को योनिच्छद फटने से रक्तस्राव होगा, 

व्यवहारिक नहीं है क्योंकि साधारणत: शारीरिक व्यायाम, खेलकूद, साइकिल चलाने आदि जैसी क्रियाओं से भी योनिच्छद फट जाती है। इसके अतिरिक्त विवाह अधिक आयु में होने के कारण अधिकतर लड़कियाँ, विशेषकर वे जो उच्च अध्ययन हेतु अथवा नौकरी करने हेतु घर से बाहर जाकर हॉस्टल, पेइंग गेस्ट सुविधा या किराये के मकान में रहती हैं, नैसर्गिक व मानवीय कामभावना को नियंत्रित करने के लिये हस्तमैथुन इत्यादि क्रियायें प्रारंभ कर देती हैं जिसके कारण भी योनिच्छद क्षतिग्रस्त हो जाती है। उन्हीं में से कुछ स्वच्छंद व उन्मुक्त विचारों की लड़कियाँ अपने बॉयफ़्रेंड से यौनसंबंध तक स्थापित कर लेती हैं जिसके कारण भी उनकी योनिच्छद क्षतिग्रस्त हो जाती है।
वर्तमान में कुछ लड़कियाँ विवाह के कुछ समय पूर्व हिम्नोप्लास्टी (hymenoplasty) नामक प्रक्रिया से योनिच्छद की पुनर्स्थापना करवा लेती हैं ।
इस प्रक्रिया से यद्यपि योनिच्छद पुनर्स्थापित हो जाती है किन्तु यह नहीं कहा जा सकता है इससे वर्जिनिटी वापस आ गई।
वर्जिन उस व्यक्ति को कहा जाता है जिसने कभी भी यौन संबंध स्थापित नहीं किया है।यदि किसी ने एक बार यौनक्रिया कर ली तो फिर वह वर्जिन नहीं रह जाता है क्योंकि उसके द्वारा की जा चुकी यौनक्रिया को अनडू (undo) करके वर्जिनिटी को पुन: प्राप्त नहीं किया जा सकता है।
मेरी समझ से वर्जिनिटी की अवधारणा ही दक़ियानूसी है।जिस प्रकार मानव शरीर में आँख, कान, नाक, मुँह इत्यादि जैसे तमाम अंग होते हैं, उसी प्रकार स्त्रियों में योनि और पुरुषों में शिश्न होता है। अत: किसी अंग विशेष के प्रयोग के संबंध में अनावश्यक रूप से अत्यधिक संवेदनशील होना अव्यवहारिक तथा अनावश्यक प्रतीत होता है।
समाज में कभी भी पुरुषों के बारे में यह प्रश्न नहीं उठाया जाता है कि उसने पूर्व में यौनक्रिया की है अथवा नहीं अर्थात वह वर्जिन है अथवा वहाँ। यहाँ यह बात नहीं भूलना चाहिये कि पूर्व में जब आज के जैसे प्रभावी गर्भनिरोधक उपलब्ध नहीं थे तो स्त्रियों द्वारा यौनक्रिया करने से उन्हें गर्भवती हो जाने का डर रहता था जो बात पुरुषों के संबंध में लागू नहीं होती थी। संभवत: इसी कारण से स्त्रियों और पुरुषों द्वारा यौनक्रिया करने को अलग-अलग दृष्टि से देखा जाता था।
वर्जिनिटी की अवधारणा इतनी सरल और सपाट नहीं है। कोई नौसिखिया व्यक्ति यह प्रश्न भी उठा सकता है किस प्रकार की यौनक्रिया करने से वर्जिनिटी चली जाती है? क्या मात्र फोरप्ले की क्रीड़ायें जैसे कि चुबंन, आलिंगन, संवेदनशील अंगों जैसे स्तनों, जंघाओं व योनि का स्पर्श व मसाज इत्यादि करने से भी वर्जिनिटी चली जाती है अथवा वर्जिनिटी जाने के लिये योनि में शिश्न प्रवेशन और/अथवा स्खलन आवश्यक है? क्या बिना प्रवेशन के ही मुखमैथुन द्वारा अथवा अँगुलियों के प्रयोग द्वारा ही स्त्री को चरम सुख (orgasm) तक पहुँचा देने से उसकी वर्जिनिटी चली जाती है। इस प्रकार हम देखते हैं कि वर्जिनिटी की अवधारणा इतनी सरल नहीं है। लीवर क्या है। 
किन्तु यह बात स्पष्ट है कि एक बार वर्जिनिटी चली जाने पर वह वापस नहीं पाई जा सकती है।

कृपया करके अपवोट शेयर और कमेंट अवश्य करें 





Comments

Popular posts from this blog

सोने से पहले हैप्पी कपल्स जरूर करे ये काम।

Tips To Take Full Night Complete Sleep: पूरी रात अच्छी और गहरी नींद कैसे ले ।

KSA के द्वारा इंटरव्यू क्रैक कैसे करें?