मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।

Image
Mardana Shakti Badhaane ka Rambaan Upaaye मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।हरि ॐ 
1. अपने सेक्स जीवन के  रीसेट बटन को  दबाएं  यदि आप एक यौन कूट में युग्मित और अटक गए हैं, तो आप अके
ले नहीं हैं। जबकि सूखे मंत्र किसी भी रिश्ते का एक सामान्य हिस्सा हैं, यह अभी भी एक अनुभव करने वाले जोड़ों के लिए कोई सांत्वना नहीं है। "गर्ल सेक्स 101" के एलीसन मून लेखक हेल्थलाइन ने कहा, "परिचितता सेक्स ड्राइव की मौत है।" "जितना अधिक हम किसी के लिए अभ्यस्त होते हैं, उतना कम रोमांचक सेक्स हो जाता है।"

यहां कुछ त्वरित युक्तियां दी गई हैं - जिनमें से कुछ मैंने कोशिश की हैं - यदि आपके सेक्स जीवन में कमी है, तो जुनून को राज करने में मदद करने के लिए।

2. एक नए तरीके से अपने शरीर की ऊर्जा को मुक्त करें  "नाच जाओ या योग का प्रयास करो," चंद्रमा कहते हैं। "एक बार जब आप अपने स्वयं के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर लेते हैं, तो आप अपने साथी के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर सकते हैं।" एक सर्वेक्षण में पाया गया कि युग्मित लेकिन यौन रूप से निष्क्रिय लोग द…

डिप्थीरिया का रामबाण ईलाज।

Diphtheria Ka Rambaan Ilaaj 

डिप्थीरिया का रामबाण ईलाज। 

हरि ॐ

डिप्थीरिया को गलघंटू के नाम से भी जाना जाता है। यह कोरोनबैक्टीरियल डिप्थीरिया बैक्टीरिया के संक्रमण से होता है। इसके बैक्टीरिया टॉन्सिल और श्वसन पथ को संक्रमित करते हैं। संक्रमण के कारण, एक झिल्ली बनती है जो सांस लेने में रुकावट पैदा करती है और कुछ मामलों में मृत्यु भी हो जाती है। यह बीमारी उम्रदराज लोगों की तुलना में बच्चों में ज्यादा होती है।

Diphtheria
डिप्थीरिया

डिप्थीरिया एक प्रकार के इंफेक्शन से फैलने वाली बीमारी है। इसे आम बोलचाल में गलाघोंटू भी कहा जाता है। यह कॉरीनेबैक्टेरियम बैक्टीरिया के इंफेक्शन से होता है। चपेट में ज्यादातर बच्चे आते हैं। हालांकि बीमारी बड़ों में भी हो सकती है। 
बैक्टीरिया सबसे पहले गले में इंफेक्शन करता है। इससे सांस नली तक इंफेक्शन फैल जाता है। इंफेक्शन की वजह से एक झिल्ली बन जाती है, जिसकी वजह से मरीज को सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। एक स्थिति के बाद इससे जहर निकलने लगता है
 जो खून के जरिए ब्रेन और हार्ट तक पहुंच जाता है और उसे डैमेज करने लगता है। इस स्थिति में पहुंचने के बाद मरीज की मौत का खतरा बढ़ जाता है। डिप्थीरिया कम्यूनिकेबल डिजीज है यानी यह बड़ी आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे में फैलता है।

बच्चे में दिखें ये लक्षण तो हो जाएं अलर्ट
- सांस लेने में कठिनाई
- गर्दन में सूजन, ठंड लगना
- बुखार, गले में खराश, खांसी
- इंफेक्शन मरीज के मुंह, नाक और गले में रहता है और फैलता है। 

बच्चे का जरूर कराएं वैक्सीनेशन
वैक्सीनेशन से बच्चे को डिप्थीरिया बीमारी से बचाया जा सकता है। नियमित टीकाकरण में डीपीटी (डिप्थीरिया, परटूसस काली खांसी और टिटनेस) का टीका लगाया जाता है। 1 साल के बच्चे को डीपीटी के 3 टीके लगते हैं। इसके बाद डेढ़ साल पर चौथा टीका और 4 साल की उम्र पर पांचवां टीका लगता है। टीकाकरण के बाद डिप्थीरिया होने की संभावना नहीं रहती है। बच्चों को डिप्थीरिया का जो टीका लगाया जाता है वह 10 से ज्यादा समय तक प्रभावी नहीं रहता। लिहाजा बच्चों को 12 साल की उम्र में दोबारा डिप्थीरिया का टीका लगवाना चाहिए।


डिप्थीरिया के लक्षण
  1. इस बीमारी के लक्षण संक्रमण के दो से पांच दिनों में दिखाई देते हैं।
  2. डिप्थीरिया से सांस लेने में कठिनाई होती है।
  3. गर्दन में सूजन हो सकती है, यह लिम्फ नोड्स भी हो सकता है।
  4. बच्चा ठंडा लगता है, लेकिन यह ठंड से अलग है।
  5. संक्रमण हमेशा फैलने के बाद बुखार होता है।
  6. खांसी शुरू होती है, खांसी होने पर आवाज भी असमान हो जाती है।
  7. त्वचा का रंग नीला हो जाता है।
  8. संक्रमित बच्चे को गले में खराश की शिकायत होती है।



कृपया करके कमेंट और शेयर जरूर करें। 


Comments

Popular posts from this blog

सोने से पहले हैप्पी कपल्स जरूर करे ये काम।

Tips To Take Full Night Complete Sleep: पूरी रात अच्छी और गहरी नींद कैसे ले ।

KSA के द्वारा इंटरव्यू क्रैक कैसे करें?