मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।

Image
Mardana Shakti Badhaane ka Rambaan Upaaye मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।हरि ॐ 
1. अपने सेक्स जीवन के  रीसेट बटन को  दबाएं  यदि आप एक यौन कूट में युग्मित और अटक गए हैं, तो आप अके
ले नहीं हैं। जबकि सूखे मंत्र किसी भी रिश्ते का एक सामान्य हिस्सा हैं, यह अभी भी एक अनुभव करने वाले जोड़ों के लिए कोई सांत्वना नहीं है। "गर्ल सेक्स 101" के एलीसन मून लेखक हेल्थलाइन ने कहा, "परिचितता सेक्स ड्राइव की मौत है।" "जितना अधिक हम किसी के लिए अभ्यस्त होते हैं, उतना कम रोमांचक सेक्स हो जाता है।"

यहां कुछ त्वरित युक्तियां दी गई हैं - जिनमें से कुछ मैंने कोशिश की हैं - यदि आपके सेक्स जीवन में कमी है, तो जुनून को राज करने में मदद करने के लिए।

2. एक नए तरीके से अपने शरीर की ऊर्जा को मुक्त करें  "नाच जाओ या योग का प्रयास करो," चंद्रमा कहते हैं। "एक बार जब आप अपने स्वयं के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर लेते हैं, तो आप अपने साथी के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर सकते हैं।" एक सर्वेक्षण में पाया गया कि युग्मित लेकिन यौन रूप से निष्क्रिय लोग द…

कफ का घरेलू उपचार।

Cough Ka Ghrelu Upchaar

कफ का घरेलू उपचार। 

हरि ॐ

यह सुझाव दिया जाता है कि इस लेख या भाग का श्‍लेष्‍मन कफ के साथ विलय कर दिया जाए। थूक मिश्रित श्लेष्मा एवं अन्य पदार्थ जो श्वसन नाल से मुंह के रास्ते निकाले जाते 

Cough
कफ
हैं, बलगम या कफ (Sputum) कहलाते हैं। बलगम, फेफड़ों के काफी अन्दर से निकाला जाने वाला गाढ़ा पदार्थ होता है न कि मुंह या गले के अन्दर का पतला थूक। बलगम का संबन्ध रोगग्रस्त फेफड़े स्वांस नली एवं ऊपरी श्वसन नाल में हवा के आवागमन से है। कुछ रोगों की दशा में बलगम में खून भी आ सकता है।

कफ़ या बलगम
वात और पित्त के साथ शरीर में कफ का संतुलन सही होना जरूरी है। कफ के बढ़ने पर 28 प्रकार के रोग आपको घेर सकते हैं। लेकिन इनसे बचने के लिए आपको ऐसी चीजों से बचना होगा, जो कफ पैदा करती हैं या कफ को बढ़ा सकती हैं। आइए जानते हैं कौन सी चीजें कफ में न खाएं:-

1. वसायुक्त चीजें वसायुक्त चीजों का सेवन कफ बढ़ाने का काम करती हैं इसलिए जितना हो सके इनसे बचने की कोशिश करें।

2. दूध
दूध कफ को बढ़ाता है। अगर आपकी कफ प्रकृति है तो आपको दूध का सेवन कम करना चाहिए या फिर हल्दी के साथ इसका सेवन करें।

3. मांस
कफ बढ़ने पर मांस का सेवन आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है, इसलिए कफ होने पर मांस का सेवन करने से बचें और अगर कफ की तासीर हो तो मांस का सेवन कम से कम करें।

4. मक्खन
मक्खन में वसा अधिक होता है, इसलिए यह कफ बढ़ाने का काम करता है। कफ की समस्या में मक्खन या मक्खन युक्त चीजों का सेवन न करें।

5. पनीर
पनीर से कफ तो बनता ही है, कई लोगों को पाचन संबंधी समस्या भी हो सकती है क्योंकि कुछ लोगों को पनीर आसानी से नहीं पचता। इसलिए अतिसेवन न करें।

बरसात का मौसम आते ही लोगो को सर्दी जुखाम की समस्या होने लगती है। बरसात में भीगने से आमतौर पर लोगो को सर्दी - जुखाम हो जाता है। सर्दी-जुखाम मुख्य रूप से वायरस या संक्रमण के कारण होता है। सर्दी-जुखाम के उपचार कुछ घरेलु नुक्से से भी कर सकते है।
खांसी और जुखाम के निम्नलिखित घरेलू नुक्से है।

1. हल्दी दूध के फायदे 
सर्दी-जुखाम की समस्या होती तो छोटी सी है। लेकिन गंभीर होने पर अनेको बीमारियों को निमंत्रण देती है। संक्रमण या फ्लू के कारण सर्दी हुआ है। तो हल्दी और दूध को मिश्रण कर गर्म करना चाहिए। इसका सेवन कुछ दिनों तक करना चाहिए। हल्दी को एंटीसेप्टिक, एंटी वायरल, जीवाणु रोधक कहा जाता है। हल्दी और दूध का उपयोग सर्दी में करना बहुत ही फायदेमंद होता है। सर्दी को ठीक करते है। जुखाम को भी दूर करते है। दूध में बहुत से पौष्टिक तत्व और खनिज होते है। जो शरीर को पोषक तत्व प्रदान करते है। शरीर को मजबूती मिलती है। सर्दी-जुखाम की सामस्य दूर हो जाती है।

2. गर्म पानी -
 सर्दी और जुखाम को ठीक करने का सबसे आसान तरीका गर्म पानी में नमक डालकर गरारा करे। इससे जुखाम से राहत मिलता है। यदि सर्दी से गला बैठ जाता है। तो यह उपाय बहुत कारगर साबित होता है। एक चुटकी नमक और पानी में उबालकर पानी से कुछ दिनों तक गरारा करना। ऐसा करने से सर्दी-जुखाम जल्दी ठीक होता है। इसके अलावा कुछ गर्म पदार्थो का भी सेवन कर सकते है।

3. मसाले की चाय - 
सर्दी होने पर मरीज को अदरक, तुलसी व कालीमिर्च का मिश्रण कर मसाले की चाय बनाकर देनी चाहिए। यह बहुत ही फायदेमंद होता है। इससे सर्दी धीरे-धीरे समाप्त होने लगती है। ऐसा कम से कम एक हफ्ते तक करे। इस चाय को एक तरह से हर्बल चाय भी कह सकते है। इससे कोई नुकसान नहीं होता है।

4. अदरक तुलसी का मिश्रण 
अदरक में बहुत से एंटीसेप्टिक गुण होते है। इसके अलावा तुलसी में भी बहुत से औषधीय गुण होते है। जो फ्लू को समाप्त करने में सहायता करते है। अदरक और तुलसी को पीसकर इसमें थोड़ा शहद को मिलाकर पीड़ित व्यक्ति को देना चाहिए। इस घरेलु नुक्से से पीड़ित व्यक्ति जल्दी ही ठीक होने लगता है। इससे उसके सर्दी व जुखाम की समस्या दूर होने लगती है।

5.अलसी का उपयोग सर्दी-जुखाम में -
 अलसी सर्दी दूर करने का बहुत अच्छा घरेलु उपचार माना जाता है। अलसी के बीज मोटे होते है। बीजो को उबालकर इसमें नींबू और शहद मिलाकर इसका सेवन करना चाहिए। इसका सेवन करने से मरीज सर्दी जुखाम से राहत मिलती है।

6. लहसुन के लाभ 
लहसुन में बहुत से औषधीय गुण होते है। जो बहुत से घरेलू उपचार में उपयोग किया जाता है। लहसुन सर्दी जुखाम को ठीक करने का सबसे पुराना घरेलु नुक्सा है। लहसुन की दो या तीन कलियों को भून कर खाये। इससे सर्दी में बहुत जल्दी आराम मिलता है। पीड़ित व्यक्ति को अच्छे से नींद की प्राप्ति होती है। जुखाम भी कम होता है।

7. काली मिर्च 
यदि सर्दी जुखाम के अलावा बलगम की शिकायत हो रही है। तो काली मिर्च का उपयोग करना चाहिए। इसका उपयोग देशी धी में मिलाकर देना चाहिए। जल्द ही मरीज की बलगम खांसी की समस्या कम हो जाएगी। यह स्वास्थ्य के लिए बहुत कारगर घरेलु उपचार है। ऐसा कम से कम कुछ दिनों तक करे। जबतक सर्दी की समस्या ठीक नहीं होती है।

8. अनार के रस का उपयोग - 
अनार में अधिक मात्रा में आयरन होता है। यह शरीर के लिए बहुत फायदेमंद फलो में से एक माना जाता है। उसी तरह सर्दी व जुखाम की समस्या में अनार के रस का सेवन करना चाहिए। इससे सर्दी-जुखाम से आराम मिलता है। इस बात का ध्यान रखे अनार के रस में बर्फ ना डालकर पीये इससे सर्दी ठीक नहीं होगी। सर्दी जुखाम में रोजाना अनार के रस का सेवन जरूर करे। क्योकि इसमें बहुत से एंटीऑक्सीडेंट्स होते है। जो शरीर को मजबूत करते है।
कृप्या करके कमेंट और शेयर करना ना भूलें। 



Comments

Popular posts from this blog

सोने से पहले हैप्पी कपल्स जरूर करे ये काम।

KSA के द्वारा इंटरव्यू क्रैक कैसे करें?

Tips To Take Full Night Complete Sleep: पूरी रात अच्छी और गहरी नींद कैसे ले ।