मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।

Image
Mardana Shakti Badhaane ka Rambaan Upaaye मर्दाना शक्ति बढाने के लिए बेहतरीन उपाय।हरि ॐ 
1. अपने सेक्स जीवन के  रीसेट बटन को  दबाएं  यदि आप एक यौन कूट में युग्मित और अटक गए हैं, तो आप अके
ले नहीं हैं। जबकि सूखे मंत्र किसी भी रिश्ते का एक सामान्य हिस्सा हैं, यह अभी भी एक अनुभव करने वाले जोड़ों के लिए कोई सांत्वना नहीं है। "गर्ल सेक्स 101" के एलीसन मून लेखक हेल्थलाइन ने कहा, "परिचितता सेक्स ड्राइव की मौत है।" "जितना अधिक हम किसी के लिए अभ्यस्त होते हैं, उतना कम रोमांचक सेक्स हो जाता है।"

यहां कुछ त्वरित युक्तियां दी गई हैं - जिनमें से कुछ मैंने कोशिश की हैं - यदि आपके सेक्स जीवन में कमी है, तो जुनून को राज करने में मदद करने के लिए।

2. एक नए तरीके से अपने शरीर की ऊर्जा को मुक्त करें  "नाच जाओ या योग का प्रयास करो," चंद्रमा कहते हैं। "एक बार जब आप अपने स्वयं के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर लेते हैं, तो आप अपने साथी के शरीर के साथ अपने संबंध की पुष्टि कर सकते हैं।" एक सर्वेक्षण में पाया गया कि युग्मित लेकिन यौन रूप से निष्क्रिय लोग द…

आर्थराइटिस के लिए बेहतरीन घरेलू नुस्खे और दवाईयां।

Best Arthritis Home Remedies and Medicine 

आर्थराइटिस के लिए बेहतरीन घरेलू नुस्खे और दवाईयां। 
हरि ॐ
आर्थराइटिस एक प्रकार की जोड़ों की समस्या है जिसमे एक या अधिक जोड़ों में सूजन, दर्द होते है I यह आम दौर पे बुजुर्गों में अधिक पाया जाता है लेकिन आजकल युवाओं, बच्चों में भी यह पाया जा रहा है I

Best Medicine for Arthritis ChillyBlog
आर्थराइटिस 

 पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में इसका प्रमाण ज्यादा होता है Iभारत में करीब १५ प्रतिशत याने लगभग 18 करोड़ लोग आर्थराइटिस से पीड़ित हैं I एक अध्ययन में पाया गया है कि देश में आर्थराइटिस से जुड़े मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही रही है I
आर्थराइटिस के ऑस्टिओआर्थरिटिस (Osteoarthritis), रूमेटॉयड अर्थराइटिस (Rheumatoid arthritis), सोराइटिक अर्थराइटिस (Psoriatic arthritis) जैसे अनेक प्रकार है जिनके कारण अलग अलग होते है लेकिन कुछ लक्षण लगभग सामान्य होते है I यह हम ऑस्टिओआर्थरिटिस की बात करते है l
लक्षण
जोड़ो में दर्द, सूजन होना, जकड़न, लालिमा इसके प्रमुख लक्षण है I शरीर के कई जोड़ों में जैसे कुल्हे, कंधे, हाथ के जोड़ों में यह होता है लेकिन घुटनों में इसका प्रमाण अधिक होता है l जोड़ों की अस्थियों पर कार्टिलेज नामक एक लचीला, नरम टिश्यू होता है 
जो चलते या जोड़ों की हलचल पर अस्थियों को घिसने से रोकता है और दबाव सोकने का काम (shock absorber) करता है l बढ़ती उम्र के साथ लचीलापन और नमी में कमी के कारण यह कड़ा होता है और घिसने लगता है I जिसके कारण शुरुवात में जब व्यक्ति चलता है तो दर्द होता है लेकिन जैसे जैसे बीमारी बढ़ती है दर्द हमेशा बना रहता है I 
साथ में सूजन, जकड़न भी होने लगती है इसी को आर्थराइटिस या गठ‍िया या संधिशोथ कहते है l चोट लगना, वायरल संक्रमण, विटामिन डी की कमी आदि कारणों से भी यह होता है l
आयुर्वेद के अनुसार, वृद्धावस्था में वात दोष का आधिक्य होने से सन्धिवात जैसी समस्याएं होती है I
इलाज
समय रहते इसका इलाज करना आगे चलके होनेवाले गंभीर परिणामों को रोकने में मदत कर सकते है l संतुलित आहार, जीवनशैली में योग्य बदलाव, वजन नियंत्रित रखना इसके लिए जरूरी है l शुरुवाती अवस्था में कुछ आसान उपाय इसे बढ़ने से रोकने में काफी मदत कर सकते है l
1. रसोई में पायी जानेवाली मसलों की चीजे दर्द कम करने में असरदार होती है I मेथी दाना, सौंठ और हल्दी बराबर मात्रा में मिला कर तवे या कढ़ाई में भून कर पीस लें। रोजाना एक चम्मच चूर्ण सुबह-शाम भोजन करने के बाद गर्म पानी के साथ लें। लहसुन के जवे भी खाए। 
सर्दियों में मेथी के लड्डू बनाकर खाना फायदेमंद है I
2. रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच मेथी के पिसे दानों में एक ग्राम कलौंजी मिलाकर गुनगुने पानी के साथ लें। दोपहर और रात में खाना खाने के बाद आधा-आधा चम्मच लेने से जोड़ मजबूत होंगे और किसी प्रकार का दर्द नहीं होगा।
3. हल्दी को एक अच्छे दर्द निवारक के रूप में जाना जाता है I यह एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी ऑक्सीडेंट होने कारण जोड़ों के दर्द, सूजन को कम करने में अत्यंत उपयुक्त है I आधा चम्मच हल्दी का पाउडर शहद के साथ लेना या एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर रोजाना पीना घुटनों के दर्द को कम करने में उपयुक्त है I
4. अदरक दर्दनिवारक, एंटी इंफ्लेमेटरी , एंटी ऑक्सीडेंट आदि औषधीय गुणों से युक्त होने के साथ ही रक्त संचार को भी तेज करता है I पानी में अदरक उबालें और ठंडा करके इसमें शहद मिलाएं। और दिन में ३ बार इस चाय को पिएं। प्रभावित हिस्से की अदरक के तेल से मसाज भी आराम मिलेगा।
मसाज और सिकाई
घुटने के दर्द और सूजन को कम करने के लिए बाह्य उपचार जैसे मसाज, सिकाई बहोत असरदार होते है I मालिश से रक्तसंचरण बढ़ता है, मांसपेशियां, टेंडॉन्स रिलैक्स होते है जिससे दर्द कम होने में मदत मिलती है l नारियल, जैतून, सरसों या लहसुन के तेल से जोड़ों की मालिश करें। हल्के हाथों से दबाव देते हुए दर्द वाले हिस्से को मलें।
1. कपड़े को गर्म पानी में भिगोकर बनाए पैड से सिंकाई करने से घुटने के दर्द में आराम मिलता है।
2. सरसों का तेल घुटने और जोड़ों के दर्द के लिए काफी फायदेमंद है I दो चम्मच सरसों के तेल में ३-४ लहसुन कलियां पीसकर डाले और अच्छे से पका ले I छानकर, गुनगुना रहने पर इस तेल से घुटने की सुबह शाम दो बार मालिश करे I
3. २०० ग्राम सरसों के तेल में, ५० ग्राम लहसुन, २५ ग्राम अजवायन और १० ग्राम लौंग को पीसकर डेल और अच्छे से पका ले। ठंडा होने पर छानकर कांच की बोतल में रख लें। इस तेल को थोड़ा गुनगुना कर घुटनों या जोड़ों की मालिश के लिए इस्तमाल करें।
4. एक कप नारियल के तेल को गरम करके, उसमें दो बड़े चम्मच लाल मिर्च पाउडर मिलाएं। इस मिश्रण से प्रभावित हिस्से पर लगाकर तकरीबन 20 मिनट के लिए छोड़ दें। ज्यादा आराम के लिए इस मिश्रण को प्रतिदिन दर्द वाले हिस्से पर लगाएं।
आयुर्वेद में निर्गुन्डी, गुग्गुलु, शल्लकी, हरिद्रा, गोखरू, त्रिफला, देवदार, दशमूल, आदि औषधीय अपने दर्दनिवारक, वातशामक गुणों के कारण सन्धिवात या आर्थराइटिस में इस्तमाल की जाती है l इनसे बने योगराज गुग्गुलु, पुनर्नवा गुग्गुलु, महारास्नादि काढ़ा, वात विध्वंस रस, महानारायण तेल आदि योग काफी प्रभावी है l लेकिन उचित वैद्यकीय सलाह लेकर ही इनका प्रयोग करे l
डॉ वैद्याज का Arthritis Pack, जोड़ों के दर्द, सूजन को कम करने का आयुर्वेदिक और सुरक्षित उपाय है I इसमें संधिवती टेबलेट, रुमॉक्स बाम, निर्गुंडी जॉइंट गार्ड तेल और हर्बोफिट कैप्सूल यह चार औषधीया शामिल है I इसके नियमित उपयोग से दर्द, सूजन कम हो कर घुटनों की समस्याओं में राहत मिलती है l
औषधियों के साथ भोजन और जीवनशैली में बदलाव भी जरूरी है
भोजन में दालचीनी, जीरा, अदरक और हल्दी का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करें। गर्म तासीर वाले इन पदार्थों के सेवन से घुटनों की सूजन और दर्द कम होता है। विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां जो फाइटोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर हो और जिनमें विटामिन सी, डी, और ई और सेलेनियम जैसे सूजन से लड़ने वाले एंटीऑक्सिडेंट शामिल हैं।
जोड़ों को गतिविधि बनाए रखने के लिए व्यायाम करना कुछ लोगों में घुटने के दर्द को कम करता है। आर्थराइटिस से पीड़ित लोगों के लिए, पैर को स्थिर रखना या दर्द से बचने के लिए मूवमेंट्स कम करना जोड़ों की जखड़न का कारण बन परेशानियां और बढ़ा सकता है। सही मुद्रा में उठना, बैठना और चलना जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए बेहद जरूरी है। इसलिए डॉक्टर की सलाह ले I
चलते वक्त लाठी या बैसाखी का सहारा ले। इससे आपके घुटने पर ज्यादा तनाव नहीं आता। Knee splints and braces का उपयोग घुटनों को स्थिर रहने में मदद करता हैं। अधिक वजन होने के कारण जोड़ों पर अतिरिक्त भार पड़ता है जिससे समस्या बढ़ सकती है, इसलिए वजन नियंत्रित रखना महत्वपूर्ण है।





Comments

Popular posts from this blog

सोने से पहले हैप्पी कपल्स जरूर करे ये काम।

KSA के द्वारा इंटरव्यू क्रैक कैसे करें?

Tips To Take Full Night Complete Sleep: पूरी रात अच्छी और गहरी नींद कैसे ले ।